रेलगाड़ी द्वारा यात्रा लाभ

जहां तक रेलगाड़ी द्वारा यात्रा के लिए रियायत देने का संबंध है, भारतीय रेलवे सभी रेलगाड़ियों की सभी श्रेणियों के सवारी डिब्‍बों में यात्रा किराए में 40 फीसदी पुरुष वरिष्ठ नागरिकों के लिए छूट और 50 फीसदी महिला वरिष्ठ नागरिकों के लिए छूट प्रदान करता है। इनमें शताब्‍दी और राजधानी एक्‍सप्रेस सहित सभी रेलगाड़ियों की स्‍लीपर श्रेणी, प्रथम श्रेणी, वातानुकूलित (एसी) चेयर और प्रथम श्रेणी एसी शामिल हैं। इस विशेष रियायत पुरुष वरिष्ठ नागरिकों के लिए निर्धारित न्यूनतम आयु 60 वर्ष है, जबकि महिला वरिष्ठ नागरिकों के लिए यह 58 वर्ष है।

सरकार ने वरिष्‍ठ नागरिकों के लिए विशेष बुकिंग काउण्‍टर बनाए हैं जिससे उन्‍हें परेशानी न हो और लंबी-लंबी कतारों में खड़े रहने पर उनके स्‍वास्‍थ्‍य को कोई नुकसान न हो। यहां कतार काफी छोटी होती है और काफी आराम से टिकट बुक करा सकते हैं। वरिष्‍ठ नागरिकों को भारतीय रेल की ऑन लाइन आरक्षण प्रणाली (बाहरी वेबसाइट जो एक नई विंडों में खुलती हैं) के जरिए भी टिकट बुक कराने का विकल्‍प प्राप्‍त होता है। कुछ दिनों बाद टिकटों की डिलीवरी भी घर पर आ जाएगी।
इसके अलावा, व्‍हील चेयर का प्रयोग करने वाले वरिष्‍ठ नागरिकों के लिए विशेष डिब्‍बे भी शुरू किए गए हैं। इन डिब्‍बों में व्‍हील चेयरों हैंडरेलों के लिए स्‍थान और इनमें विशेष प्रकार से तैयार किए गए शौचालय (टायलेट) की व्‍यवस्‍था हैं। कई रेलवे स्‍टेशनों पर व्‍हील चेयर का प्रयोग करने वाले वरिष्‍ठ नागरिकों के लिए विशेष ढलानों (रैंप) का निर्माण किया गया है ताकि उन्‍हें रेल की पटरी पार करने अथवा सीढ़िया चढ़ने में कोई असुविधा न हो। वृद्ध व्‍यक्तियों के लिए सभी जंक्‍शनों, जिला मुख्‍यालयों और खास स्‍टेशनों पर पहिदार कुर्सियां (व्‍हील चेयर्स) उपलब्‍ध हैं ।
वरिष्‍ठ नागरिकों के लिए कुछ रियायतों के बारे में जानकारी प्राप्‍त करने के लिए यहां क्लिक करें।